Sunday, July 21, 2024
HomeHealth & Fitnessमल में खून आना, वजन कम होना और सांस फूलना सारकोमा के...

मल में खून आना, वजन कम होना और सांस फूलना सारकोमा के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं: डॉ. केतन डांग

चंडीगढ़ । सारकोमा दुर्लभ कैंसर है जो मांसपेशियों, वसा, रेशेदार, कार्टिलेज(नर्म हड्डी), नसों और गहरी त्वचा के ऊतकों में होते हैं यही से इसकी शुरुआत होती है।
सारकोमा और इससे संबंधित जटिलताओं के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से, हर साल जुलाई में विश्व सारकोमा महीना मनाया जाता है। इस वर्ष का विषय ” लोगों में जागरूकता बढ़ाना” है।
फोर्टिस अस्पताल मोहाली के ऑन्कोलॉजी के कंसल्टेंट डॉ. केतन डांग ने एक सलाह में सारकोमा के कारणों, लक्षणों और पता लगाने के तरीकों के बारे में चर्चा की।
यह बताते हुए कि सारकोमा एक दुर्लभ घातक ट्यूमर कैंसर है जो शरीर में अन्य ऊतकों को जोड़ने वाली कोशिकाओं में विकसित होता है, डॉ. डांग ने कहा कि हालाँकि ये कैंसर शरीर में कहीं भी विकसित हो सकते हैं, ये ज़्यादातर हाथ, पैर, छाती और पेट पर पाए जाते हैं।
सारकोमा के लक्षणों पर चर्चा करते हुए, डॉ. डांग ने कहा कि दर्द रहित गांठ या कोई सूजन चिकित्सा हस्तक्षेप की मांग करती है। मल में रक्त, पेट में दर्द, वजन कम होना और सांस लेने में तकलीफ़ होने पर ऑन्कोलॉजिस्ट को दिखाना चाहिए। कुछ सारकोमा आस-पास की नसों और अंगों पर दबाव डाल सकते हैं, जिससे दर्द, सांस लेने में समस्या हो सकती है। बोन (हड्डी) सारकोमा हाथ या पैर, धड़ या पीठ में दर्द और/या सूजन का कारण बनता है। यह जोड़ों की हरकत को प्रभावित करता है, बिना किसी स्पष्ट कारण के बुखार और हड्डियों के फ्रैक्चर का कारण बन सकता है।
सारकोमा के विभिन्न प्रकारों पर प्रकाश डालते हुए, डॉ. डांग ने कहा कि इनमें मुख्य रूप से सॉफ्ट-टिशू सारकोमा, सिनोवियल सारकोमा, लिपोसारकोमा, डी-डिफरेंशिएटेड लिपोसारकोमा, मैलिग्नेंट पेरीफेरल नर्व शरथ ट्यूमर, लो ग्रेड फाइब्रोमाइक्सॉइड सारकोमा, इविंग सारकोमा, ओस्टियोसारकोमा, चोंड्रोसारकोमा आदि शामिल हैं।
डॉ. डांग ने कहा कि सारकोमा के निदान में ट्यूमर के बायोप्सी और हिस्टोपैथोलॉजिक मूल्यांकन के साथ-साथ इम्यूनोहिस्टोकेमिस्ट्री और मॉलिक्यूल टेस्टिंग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि एक पूर्ण मूल्यांकन में आमतौर पर पीईटी-सीटी स्कैन के माध्यम से छाती, पेट और शरीर के बाकी हिस्सों की इमेजिंग शामिल होती है।
उपचार प्रक्रियाओं के बारे में जानकारी देते हुए, डॉ. डांग ने कहा कि इनमें सर्जरी, रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी शामिल हैं। ये मूल रूप से ट्यूमर के चरण और प्रकार पर निर्भर करते हैं। फोर्टिस अस्पताल मोहाली में, मॉलिक्यूल टेस्टिंग किया जाता है जिसके बाद सारकोमा रोगियों को लक्षित चिकित्सा और इम्यूनोथेरेपी दी जाती है। ट्यूमर बोर्ड में एक सर्जिकल ऑन्कोलॉजिस्ट, मेडिकल ऑन्कोलॉजिस्ट, रेडिएशन ऑन्कोलॉजिस्ट, रेडियोलॉजिस्ट और पैथोलॉजिस्ट शामिल हैं, जो उपचार की सर्वोत्तम विधि पर विचार-विमर्श करते हैं और रोगी के लिए उपचार रणनीतियों की सावधानीपूर्वक योजना बनाते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments